Wednesday, May 20, 2009

प्यास


पानी से मत पूछो
प्यासे से पूछो
प्यास क्या होती है

यदि पानी को
ज्ञान हो जाए
प्यासे की प्यास का
तू शायद वो
बहना छोर दे

रुक जाए ,थम जाए
और कही तालाब बन
कर दूषित हो जाए .

जब से इन्सान को
अपना ज्ञान हो गया है
तभी से वो तालाब की
तरह दूषित हो गया है .

6 comments:

Suman said...

good

Rakesh said...

archnaji
bahut acha vishay chuna aapne
apni jarurat ka andaza lagte hi hum durlabh ho jate hai apni avsyakta ka mol bhav karne lag jate hai....bahut saral aur chote mein aapne achi baat samreshit ki ...sadhuwad...rakesh

amlendu asthana said...

Pani ka mol to pyasa hi pahchanta hai. achchha bimb chuna

अर्चना गंगवार said...

suman ji.....
rakesh ji ....
aur amlendu ji....

rachna ko apna waqt aur aur vichar dene ka bahut bahut sukrriya...

aapki ray hame rah dikhati hai..

Amit K Sagar said...

आपको पढ़कर बहुत अच्छा लगा. सार्थक लेखन हेतु शुभकामनाएं. जारी रहें.


---
Till 25-09-09 लेखक / लेखिका के रूप में ज्वाइन [उल्टा तीर] - होने वाली एक क्रान्ति!

Udan Tashtari said...

सत्य वचन. सहमत हूँ.

सार्थक रचना, बधाई.